Breaking News

  • एडीजी अभिषेक त्रिवेदी बोले- नूरपुर में गाड़ियों के शीशे तोड़ने वालों की हुई पहचान
  • हिमाचल 1500 रुपए योजना: 48 हजार से अधिक महिलाओं को 4500-4500 रुपए जारी
  • हिमाचल में बरसी राहत की फुहार, तेज तूफान में गिरे पेड़
  • देहरा उपचुनाव : जनसभाओं के लिए ये मैदान चिन्हित-डिटेल में जानें
  • हिमाचल बिजली बोर्ड कर्मचारियों ने MD के खिलाफ खोला मोर्चा, OPS भी मांगी
  • देहरा उपचुनाव : इजरायल वाटरे इंगटी सामान्य पर्यवेक्षक नियुक्त
  • हिमाचल : यहां गरज के साथ बारिश, ओलावृष्टि और तेज हवाओं का अलर्ट
  • हिमाचल : SMS से भेजे जाएंगे जेबीटी, शास्त्री, नॉन मेडिकल व एलटी TET के एडमिट कार्ड
  • अग्निवीर भर्ती : कांगड़ा और चंबा जिला के उम्मीदवारों के लिए अपडेट
  • देहरा से डॉक्टर राजेश शर्मा की टिकट कटने पर क्या बोले सुक्खू के यह मंत्री- पढ़ें

माता चिंतपूर्णी और बाबा बालक नाथ मंदिर के लिए रोपवे को कवायद

    डिप्टी सीएम ने अधिकारियों को संभावनाएं तलाशने के निर्देश दिए

    शिमला। डिप्टी सीएम मुकेश अग्निहोत्री ने अधिकारियों को माता चिंतपूर्णी मंदिर और बाबा बालक नाथ जी मंदिर के लिए रोपवे विकसित करने की संभावनाएं तलाशने के निर्देश दिए। यह निर्देश डिप्टी सीएम ने रोपवे एवं त्वरित परिवहन विकास निगम (आरटीडीसी) के कार्यों की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए दिए।
    D.El.Ed CET 2022 चौथे चरण की काउंसलिंग 26 से-इन्हें मिला गोल्डन चांस

    डिप्टी सीएम ने निगम द्वारा कार्यान्वित की जा रही सभी परियोजनाओं और गतिविधियों का जायजा लिया। उन्होंने कहा कि रोपवे परिवहन का एक पर्यावरण हितैषी साधन है। इसके माध्यम से हिमालयी क्षेत्रों में यात्रा की दूरी को पर्याप्त रूप से कम होती है, क्योंकि पहाड़ी इलाकों में एक किलोमीटर रोपवे लगभग 5-6 किलोमीटर सड़क दूरी के बराबर होता है।
    वीरभद्र सिंह के पीएसओ रहे पदम दास ठाकुर का सेवा विस्तार रद्द

     

    उन्होंने कहा कि राज्य सरकार की पर्यावरण के अनुकूल, स्वच्छ और हरित परिवहन के इस साधन को बड़े पैमाने पर लागू करने की योजना है। इसके माध्यम से शहरों में भीड़-भाड़ को कम करने, छूटे हुए कस्बों में परिवहन सुविधा और पर्यटन की क्षमता को बढ़ावा प्रदान किया जाएगा। आरटीडीसी ने शिमला में इस परियोजना के लिए जमीनी स्तर पर कार्य शुरू कर दिया है।
    शिमला: शहर में जाम से बचने को रोडमैप तैयार, 106 जवान रहेंगे तैनात

     

    डिप्टी सीएम ने आरटीडीसी को अगले पांच वर्षों में इस परियोजना का सुचारू रूप से संचालन शुरू करने के निर्देश दिए। इस रोपवे परियोजना में 1546.40 करोड़ रुपये की लागत के साथ 15 स्टेशनों को जोड़ने वाले 14.69 किलोमीटर रोपवे का नेटवर्क होगा। यह शहरी रोपवे परियोजना विश्व की अपनी तरह की दूसरी और भारत में पहली परियोजना होगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार धर्मशाला और मनाली के लिए इसी तरह की शहरी रोपवे परियोजनाओं को विकसित करने की योजना बना रही है।
    क्लर्क की इस छंटनी परीक्षा के नहीं मिले हैं एडमिट कार्ड तो करें ऐसा

     

    डिप्टी सीएम मुकेश अग्निहोत्री ने आरटीडीसी को राज्य में ग्रामीण अधोसंरचना विकास निधि के तहत रोपवे विकास के लिए नाबार्ड के दिशा-निर्देशों को तत्काल स्वीकृति के लिए मंत्रिमंडल की बैठक में लाने के निर्देश दिए ताकि 329 असंबद्ध बस्तियों (250 से जनसंख्या से अधिक) को संपर्क सुविधा प्रदान करने के लिए समग्र रोपवे का निर्माण करने के साथ-साथ कृषि और बागवानी उत्पादों की ढुलाई नाबार्ड आरआईडीएफ के तहत बड़े पैमाने पर की जा सके।
    HRTC को 1350 करोड़ का घाटा, इलेक्ट्रिक वाहन नीति बनेगी संजीवनी

     

    उन्होंने आरटीडीसी को अगले पांच वर्षों में प्रत्येक जिले में कम से कम एक रोपवे विकसित करने के निर्देश दिए ताकि राज्य में संपर्क सुविधा बढ़ाकर रोजगार सृजन के साथ-साथ पर्यटन संभावनाओं को बढ़ावा मिल सके। बैठक में प्रधान सचिव परिवहन आरडी नजीम, आरटीडीसी के निदेशक अजय शर्मा, आरटीडीसी के मुख्य महाप्रबंधक रोहित ठाकुर और निगम के अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।
    शिमला में इलेक्ट्रिक वाहन की टेस्ट ड्राइव, डिप्टी सीएम ने की सवारी


    आज की ताजा खबर, ब्रेकिंग न्यूज़, लाइव न्यूज अपडेट पढ़ें https://ewn24.in/ पर,  ताजा अपडेट के लिए हमारा Facebook Page Like करें 

Himachal Latest

Live video

Jobs/Career

Trending News

  • Crime

  • Accident

  • Politics

  • Education

  • Exam

  • Weather