Breaking News

  • मुख्यमंत्री सुक्खू बोले - बिकाऊ विधायकों ने भाजपा का कमल ही खरीद लिया
  • Breaking : हिमाचल पुलिस के कर्मचारी अब वर्दी में नहीं बना सकेंगे रील, वीडियो
  • लाहौल स्पीति : काजा पहुंची EVM और VVPAT, सुरक्षित स्ट्रॉन्ग रूम में पहुंचाईं
  • हिमाचल : गर्मी ने तोड़ा 10 साल का रिकॉर्ड, शिमला में रविवार सीजन का सबसे गर्म दिन
  • पंडित जवाहरलाल नेहरू की पुण्यतिथि : शिमला राजीव भवन में दी गई श्रद्धांजलि
  • हिमाचल के बागवानों को क्यों नहीं मिलते सेब के सही दाम, राहुल गांधी ने बताया कारण
  • हिमाचल में चढ़ा पारा, अभी सताएगी लू- इस दिन राहत की उम्मीद
  • हिमाचल मौसम अपडेट : अब इस दिन बारिश की उम्मीद, बरस सकते हैं मेघ
  • मनाली घूमने जा रहे पर्यटकों से भरे टैंपो ट्रैवलर और ट्रक में टक्कर, 13 घायल
  • पठानकोट-मंडी एनएच पर दरकी पहाड़ी, तीन मशीनें आई चपेट में, मार्ग अवरुद्ध

हिमाचल : ट्रैकर्स की निगरानी करेगी मोबाइल ऐप, देगी रूट की सही जानकारी

    रजिस्ट्रेशन के बाद आपदा की स्थिति में तुरंत होगा बचाव

    शिमला। पहाड़ों में ट्रैकिंग का शौक काफी लोगों को होता है, लेकिन कुछ लोग लापरवाही करते हुए बिना पंजीकरण के कठिन व जोखिम भरे मार्ग में ट्रैकिंग के लिए निकल पड़ते हैं। इससे नुकसान ये होता है कि ऐसे लोग कई तरह की परिस्थितियों के चलते रूट से भटक जाते हैं। कई लोगों को तो रेस्क्यू कर लिया जाता है लेकिन कुछ अपनी जान से हाथ धो बैठते हैं।

    नादौन : टिप्पर और स्कूटी में जोरदार टक्कर, एक युवक की टांडा में मौत, 2 जख्मी

    विभाग ने इन सभी परिस्थितियों से निपटने के लिए एक ऐप बनाई हैं। इस ऐप पर रजिस्ट्रेशन के बाद ट्रेकर को रूट की सही जानकारी मिलेगी। पर्यटन विभाग के प्रबंध निदेशक अमित कश्यप ने बताया कि प्रदेश में ट्रैकिंग के लिए आए सैलानी बिना पंजीकरण के रूट पर चले जाते हैं। रूट की सही जानकारी न होने से कई बार वह मुसीबत में फंस जाते हैं।
    मंडी : गहरी खाई में गिरी कार, दो की अस्पताल ले जाते समय मौत, एक IGMC रेफर

    पर्वतारोहियों की सुविधा के लिए विभाग ने एक ऐप बनाई है जिसमें रूट की पूरी जानकारी उपलब्ध होगी। इसमें रेड, ऑरेंज व ग्रीन तीन श्रेणियों में रूट्स को दर्शाया गया है। पर्यटन विभाग की आधिकारिक वेबसाइट पर इसका लिंक उपलब्ध करवाया गया है। ऐप में हिमाचल के सभी ट्रैकिंग रूट की जानकारी दी गई है।
    कांगड़ा : तरसूह में मिला युवक का शव, घर के कुछ ही दूर खाई में पड़ा था

    साल के कौन से समय में कौन सा रूट ट्रैकिंग के लिए उपयुक्त है यह जानकारी भी इसमें दी गई है। ऐप में पंजीकरण के बाद इसकी जानकारी संबंधित उपायुक्त व एसएचओ को मिल जाएगी और यदि ट्रैकर्स का दल बताई गई समयावधि में नहीं लौटता है तो इसकी सूचना संबंधित अधिकारियों को मिल जाएगी, जिससे रेस्क्यू में सहायता मिलेगी और समय रहते बचाव कार्य किया जा सकेगा।


    आज की ताजा खबर, ब्रेकिंग न्यूज़, लाइव न्यूज अपडेट पढ़ें https://ewn24.in/ पर,  ताजा अपडेट के लिए हमारा Facebook Page Like करें  



     

Himachal Latest

Live video

Jobs/Career

Trending News

  • Crime

  • Accident

  • Politics

  • Education

  • Exam

  • Weather