Categories
ACCIDENT TRENDING NEWS Top News Himachal Latest Chamba State News

डीसी चंबा की गाड़ी को कार ने मारी टक्कर, नशे में धुत्त थे युवक

स्कॉर्पियो को पहुंचा काफी नुकसान

चंबा। जिला चंबा के डीसी दुनीचंद एक सड़क हादसे का शिकार हो गए। तहसील होली के गरोला के पास पिल्ली नामक स्थान पर डीसी की गाड़ी को एक कार ने टक्कर मार दी। गनीमत ये रही कि हादसे में किसी तरह का जानी नुकसान नहीं हुआ है। हालांकि स्कॉर्पियो को काफी नुकसान पहुंचा है। हादसा सोमवार रात पेश आया है।

हिमाचल : नशे में धुत्त बेटे ने ले ली पिता की जान, दादी पर भी किया हमला

जानकारी के अनुसार, डीसी चंबा दुनीचंद कुछ काम निपटाकर होली से चंबा लौट रहे थे। गरोला के पिल्ली से नशे में धुत्त कुछ युवक ऑल्टो कार में सवार होकर शादी समारोह में जा रहे थे। इस दौरान कार ने डीसी की स्कॉर्पियो को टक्कर मार दी। ड्राइवर ने तुरंत हादसे की सूचना पुलिस को दी।

सूचना मिलते ही तुरंत पुलिस मौके पर पहुंची और आरोपी युवकों को हिरासत में लिया। हालांकि डीसी ने युवकों के खिलाफ कोई केस दर्ज नहीं किया है। उन्होंने युवकों को स्कॉर्पियो की मरम्मत कराने की शर्त के साथ चेतावनी देकर छोड़ दिया। युवकों को ड्रंक एंड ड्राइव का चालान भी काटा गया है।

बद्दी : प्राइवेट बस ने बाइक को मारी टक्कर, चार युवकों की गई जान

आज की ताजा खबर, ब्रेकिंग न्यूज़, लाइव न्यूज अपडेट पढ़ें https://ewn24.in/ पर,  ताजा अपडेट के लिए हमारा Facebook Page Like करें 
Categories
ACCIDENT TRENDING NEWS Top News Himachal Latest Chamba State News

मध्य प्रदेश में विमान दुर्घटनाग्रस्त, हिमाचल के पायलट की मौत

बालाघाट जिला में भक्कुटोला-कोसमारा की पहाड़ी पर हुआ हादसा

चंबा। हिमाचल प्रदेश के लिए दुखद खबर है। मध्य प्रदेश के बालाघाट में हुए चार्टर विमान दुर्घटना में चंबा जिला के बनीखेत के पायलट मोहित ठाकुर (25) पुत्र कौशल ठाकुर की मौत हो गई है। ये हादसा शनिवार को पेश आया। विमान में एक पायलट और एक ट्रेनी पायलट सवार थे और दुर्घटना में दोनों की एक साथ मौत हो गई।

शिमला की दृष्टिबाधित मुस्कान बनीं सहायक प्रोफेसर, कर रही हैं पीएचडी

बनीखेत की ग्राम पंचायत पुखरी निवासी मोहित ठाकुर बचपन से ही पढ़ाई में रुचि रखते थे। उन्होंने गुरु नानक पब्लिक स्कूल डलहौजी से शिक्षा ग्रहण की है। इसके बाद बरेली में पायलट की शिक्षा ग्रहण करके पायलट बनें। उनके परिवार में एक भाई और माता-पिता है। भाई हमीरपुर में शिक्षा ग्रहण कर रहा है। माता सरकारी स्कूल में टीचर हैं और पिता निजी कंपनी में इंजीनियर हैं। मोहित ठाकुर की मौत की खबर सुनते ही परिवार पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है।

ये हादसा बालाघाट जिले के लांजी और किरनापुर के बीच भक्कुटोला-कोसमारा की पहाड़ी पर हुआ। एटीसी गोंदिया के एजीएम कमलेश मेश्राम ने बताया कि घटना में ट्रेनी पायलट रुकशंका वरसुका और इंस्ट्रक्टर मोहित की मौत हो गई है। वहीं, बालाघाट के एसपी समीर सौरभ ने बताया कि यह प्लेन ट्रेनी विमान था, जो महाराष्ट्र के गोंदिया जिले की बिरसी एयरस्ट्रीप से उड़ा था और दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। (ewn24news)

शिमला : प्रॉपर्टी टैक्स न देने वालों की कटेगी बिजली-पानी, फिर गारबेज की बारी

बता दें कि घटनास्थल बालाघाट जिला मुख्यालय से करीब 40 किमी दूर स्थित है। शनिवार दोपहर मध्य प्रदेश के बालाघाट में एक चार्टर्ड विमान के दुर्घटनाग्रस्त होने से एक प्रशिक्षु महिला पायलट और विमान के प्रशिक्षक की मौत हो गई। पुलिस ने कहा कि विमान बालाघाट की किरनापुर पहाड़ियों के भक्कू टोला गांव में दुर्घटनाग्रस्त पाया गया। बालाघाट के पुलिस अधीक्षक (एसपी) समीर सौरभ ने कहा कि दुर्घटनास्थल पर पहुंचने पर, पुलिस ने दो शव बरामद किए, जिनकी पहचान एक प्रशिक्षु महिला पायलट रुक्षांका वरसुका और विमान के प्रशिक्षक मोहित कुमार के रूप में हुई है।

विमान ने शनिवार दोपहर महाराष्ट्र के गोंदिया जिले के बिरसी हवाई अड्डे से उड़ान भरी थी। बिरसी हवाई पट्टी के नियंत्रक कमलेश मेश्राम ने घटना की पुष्टि करते हुए बताया कि उनकी आखिरी लोकेशन दोपहर करीब पौने तीन बजे बालाघाट के किरनापुर में मिली थी। उन्होंने कहा, “दुर्घटना का कारण अभी पता नहीं चल पाया है, लेकिन हो सकता है कि यह खराब मौसम के कारण हुआ हो, क्योंकि शनिवार को बालाघाट में ओलावृष्टि हो रही थी।”

आज की ताजा खबर, ब्रेकिंग न्यूज़, लाइव न्यूज अपडेट पढ़ें https://ewn24.in/ पर,  ताजा अपडेट के लिए हमारा Facebook Page Like करें 
Categories
Top News Himachal Latest KHAS KHABAR Shimla Chamba

चंबा : रिकॉर्ड समय में बना चौली वैली ब्रिज, 2.50 करोड़ रुपये हुए हैं खर्च

 CM सुक्खू ने वर्चुअल माध्यम से किया उद्घाटन

शिमला। मुख्यमंत्री ठाकुर सुखविंदर सिंह सुक्खू ने आज शिमला से वर्चुअल माध्यम से चंबा जिला के भरमौर विधानसभा क्षेत्र की खड़ामुख-होली सड़क पर चौली में नवनिर्मित वैली पुल का शुभारंभ किया। इसी वर्ष तीन फरवरी को यहां पुल ढह गया था और इस 190 फुट लंबे नए पुल को लगभग 2.50 करोड़ रुपये की लागत से मात्र डेढ़ माह में निर्मित किया गया है। इससे 10 ग्राम पंचायतों के लगभग 15 हजार लोगों को लाभ पहुंचेगा।

मुख्यमंत्री ने लोक निर्माण विभाग को इस पुल को रिकॉर्ड समयावधि में पूर्ण करने के लिए बधाई देते हुए कहा कि लोक निर्माण मंत्री विक्रमादित्य सिंह ने इसमें विशेष रुचि दिखाते हुए पुल निर्माण को समयबद्ध पूरा करने में अपना बहुमूल्य सहयोग दिया।

सुक्खू के सीएम बनने पर भाजपा विधायक को क्यों हुई खुशी-जानिए

राज्य में बेहतर सड़क अधोसंरचना पर बल देते हुए ठाकुर सुखविंदर सिंह सुक्खू ने कहा कि वर्तमान सरकार लोगों को सड़क संपर्क की सर्वोत्तम सुविधा प्रदान करने के लिए दृढ़ संकल्प है ताकि उन्हें अपनी दैनिक गतिविधियों में किसी भी तरह की असुविधा का सामना न करना पड़े। उन्होंने कहा कि यात्रियों की सुविधा के दृष्टिगत लोक निर्माण विभाग को सड़कों के रखरखाव और विस्तारीकरण के कार्य को प्राथमिकता प्रदान करने के निर्देश दिए गए हैं।

सदन में तीखी नोक झोंक, बीजेपी विधायक ने दी आमरण अनशन की चेतावनी

उन्होंने कहा कि भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण ने लगभग 10 हजार करोड़ रुपये की शिमला से मटौर और लगभग 12 हजार करोड़ रुपये की पठानकोट से मंडी फोरलेन परियोजना पर सैद्धांतिक तौर पर सहमति जताई है। इससे सुविधाजनक यात्रा के साथ ही लोगों के समय की भी बचत होगी।

हिमाचल में HRTC के 31 डिपो, 10 सब डिपो-3,142 बसें

इस अवसर पर, लोक निर्माण मंत्री विक्रमादित्य सिंह, मुख्य संसदीय सचिव राम कुमार चौधरी एवं संजय अवस्थी, विधायकगण मुख्यमंत्री के साथ शिमला में उपस्थित रहे जबकि पूर्व मंत्री ठाकुर सिंह भरमौरी एवं उपायुक्त डीसी राणा, चंबा से इस कार्यक्रम से वर्चुअल माध्यम से जुड़े।

आज की ताजा खबर, ब्रेकिंग न्यूज़, लाइव न्यूज अपडेट पढ़ें https://ewn24.in/ पर,  ताजा अपडेट के लिए हमारा Facebook Page Like करें 

 

 

Categories
Top News Himachal Latest KHAS KHABAR Shimla Chamba Kangra

IGMC और TMC से मेडिकल कॉलेज चंबा भेजे 35 डॉक्टर, नोटिफिकेशन जारी

शिमला। डॉ. राजेंद्र प्रसाद मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल टांडा (टीएमसी) और आईजीएमसी के 35 डॉक्टरों को मेडिकल कॉलेज चंबा भेजा गया है। वहीं श्री लाल बहादुर शास्त्री मेडिकल कॉलेज नेरचौक (मंडी) से एक डॉक्टर को भी चंबा भेजा गया है। मुख्य सचिव (स्वास्थ्य) ने कुल 36 डॉक्टरों के तबादला आदेश जारी किए गए हैं।

इन डॉक्टरों को जवाहर लाल नेहरू गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज चंबा में तैनाती दी गई है। इनमें 12 विशेषज्ञ डॉक्टर आईजीएमसी शिमला से हैं और 23 विशेषज्ञ डॉक्टर डॉ. राजेंद्र प्रसाद मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल टांडा जबकि एक डॉक्टर श्री लाल बहादुर शास्त्री मेडिकल कॉलेज नेरचौक (मंडी) से जवाहर लाल नेहरू गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज चंबा स्थानांतरित किए गए हैं।

आदेशों के मुताबिक एनेस्थीसिया विभाग के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. भानू गुप्ता को टीएमसी से मेडिकल कॉलेज चंबा भेजा गया है। इसके साथ ही डॉ. रमेश कुमार एसोसिएट प्रोफेसर एनेस्थीसिया विभाग को टीएमसी से चंबा, असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. विजय कुमार रेडियोलॉजी नोसिस विभाग को टीएमसी से चंबा,  असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. अमरजीत डेंटिस्ट्री विभाग, असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. आशा नेगी, फिजियोलॉजी, असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. समीर बायोकेमिस्ट्री, डॉ. मोनिश तोमर पैथोलॉजी, डॉ. स्वाति अग्रवाल असिस्टेंट प्रोफेसर पैथोलॉजी को चंबा भेजा गया है।

यहां देखें पूरी लिस्ट किसे कहां से भेजा गया…

आज की ताजा खबर, ब्रेकिंग न्यूज़, लाइव न्यूज अपडेट पढ़ें https://ewn24.in/ पर,  ताजा अपडेट के लिए हमारा Facebook Page Like करें 

Categories
Top News Himachal Latest Chamba State News

चंबा की मूर्तिकार लता सम्मानित, पिता के हुनर को रखे हैं जिंदा

विस अध्यक्ष ने स्मृति चिन्ह और प्रशस्ति पत्र देकर नवाजा

 

चंबा। अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के उपलक्ष्य पर हिमाचल के चंबा जिला की मूर्तिकार लता को सम्मानित किया गया। विधानसभा अध्यक्ष कुलदीप सिंह पठानिया, चंबा सदर विधायक नीरज नैय्यर  और डीसी चंबा दूनी चंद राणा ने स्मृति चिन्ह और प्रशस्त्री पत्र देकर लता को नवाजा। लता चंबा रूमाल और मिट्टी की मूर्ति के साथ पुलते भी बनाती हैं। लता ने पिता की मृत्यु के बाद मूर्ति बनाने का काम शुरू किया।

शिमला : ठियोग-हाटकोटी हाईवे पर गहरी खाई में गिरी कार, एक व्यक्ति की गई जान

बता दें कि लता चंबा शहर के चमेशनी मोहल्ला की रहने वाली हैं। उनके पिता स्वर्गीय पूर्ण चंद एक मूर्तिकार थे। लता अपने पिता के साथ मूर्ति बनाने में सहायता करती थी। इसी दौरान लता ने मूर्ति बनाने का हुनर सीखा। पिता की मृत्यु के बाद मूर्ति बनाने का काम शुरू किया। लता आज भी अपने पिता के हुनर संजोए रखे है। एक बेटी की अपने दिवंगत पिता को इससे बड़ी श्रद्धांजलि ही कोई हो सकती है।

हिमाचल में बड़ा हादसा : गाड़ी ने कुचले 9 राहगीर, 5 की मौत, 2 PGI रेफर

आज की ताजा खबर, ब्रेकिंग न्यूज़, लाइव न्यूज अपडेट पढ़ें https://ewn24.in/ पर,  ताजा अपडेट के लिए हमारा Facebook Page Like करें 
Categories
ACCIDENT TRENDING NEWS Top News Himachal Latest Chamba State News

चंबा-जोत मार्ग पर हादसा, कांगड़ा के युवक की गई जान, दूसरा घायल

कुट के पास कंडे दा खेतर में हुआ हादसा

चंबा। हिमाचल के चंबा जिला में सड़क हादसे में कांगड़ा जिला निवासी एक युवक की मौत हो गई है, जबकि एक युवक गंभीर रूप से घायल है। हादसा चंबा-चुवाड़ी वाया जोत मार्ग पर हुआ है। मृतक की पहचान 26 वर्षीय अविनाश पुत्र जोगिंद्र सिंह निवासी गांव चनेद डाकघर फतेहपुर जिला कांगड़ा के रूप में हुई। घायल युवक की पहचान 24 वर्षीय अभिषेक निवासी गांव डड़ोह डाकघर फतेहपुर जिला कांगड़ा के रूप में हुई। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर घायल को उपचार के लिए स्थानीय अस्पताल पहुंचाया।

बता दें कि दोनों युवक कार में सवार होकर चंबा से कांगड़ा की तरफ जा रहे थे। चंबा-चुवाड़ी वाया जोत मार्ग पर कुट के पास कंडे दा खेतर में चालक कार से संतुलन खो बैठा और कार खाई में गिर गई। हादसे में अविनाश की मौत हो गई और अभिषेक घायल है। घायल युवक की हालत अभी खतरे से बाहर है। वहीं, पुलिस थाना चुवाड़ी में मामला दर्ज कर पुलिस ने हादसे की जांच शुरू कर दी है।

 

Categories
TRENDING NEWS Top News Himachal Latest Chamba State News

चंबा : खड़ामुख-होली मार्ग बहाल, लैंडस्लाइड के कारण 24 घंटे से था बंद

भरमौर। जिला चंबा के भरमौर के खड़ामुख-होली मार्ग में हुए भूस्खलन के कारण 24 घंटों से बंद पड़े मार्ग को बहाल कर दिया गया है।  जिसके बाद अब वाहनों की आवाजाही सुचारू रूप से चल पड़ी है।

बता दें कि बीते शनिवार को दोपहर बाद यहां पर एका एक पहाड़ी से भारी लैंडस्लाइड हुआ था। जिस कारण बड़ी-बड़ी चट्टानें रास्ते पर आ गिरी थी। सड़क मार्ग बंद होने के कारण होली तहसील की लगभग 15 पंचायतों का संपर्क दूसरी जगह से पूरी तरह कट गया था।

बिलासपुर: घुमारवीं शहर में अब ट्रैफिक नियम तोड़े तो कटेगा ऑनलाइन चालान

 

वहीं, मौसम विभाग के अनुसार अगले 3 से 4 दिन मौसम खराब रहेगा। लिहाजा लैंड स्लाइड की घटना को देखते हुए प्रशासन ने भी अलर्ट जारी कर दिया है। बहरहाल क्षेत्र में हो रहे भूस्खलन किसी खतरे का संकेत तो नहीं इसको लेकर भी तरह तरह की चर्चाएं लोगों के बीच हो रही है।

लोगों का कहना है कि हाईड्रो प्रोजेक्ट के निर्माण कार्य में की जा रही ब्लास्टिंग से पहाड़ खोखले हो चुके हैं। यहीं वजह है कि आए दिन क्षेत्र में भूस्खलन की घटनाएं पिछले कुछ समय से सामने आ रही हैं।
ऊना बल्क ड्रग पार्क के लिए ग्रांट जारी, केंद्र से मिली 225 करोड़ की पहली किस्त

आज की ताजा खबर, ब्रेकिंग न्यूज़, लाइव न्यूज अपडेट पढ़ें https://ewn24.in/ पर,  ताजा अपडेट के लिए हमारा Facebook Page Like करें 
Categories
Top News Himachal Latest KHAS KHABAR Shimla Chamba Kangra

पश्चिमी बाजारों में बढ़ी हिमाचल की ऑर्गेनिक ‘ऊन’ की डिमांड

प्रदेश वूल फेडरेशन ने पशुपालकों की आर्थिकी को किया सुदृढ़

शिमला। हिमाचल प्रदेश में भेड़ पालन ग्रामीण अर्थव्यवस्था और आजीविका का अभिन्न अंग है। प्रदेश के छोटे और सीमांत किसानों ने कृषि के साथ-साथ भेड़ पालन को अपनाकर अपनी आमदनी में वृद्धि की है। राज्य के ग्रामीण और जनजातीय क्षेत्रों के किसानों के लिए भेड़ पालन जीवनयापन का प्रमुख जरिया है।  गुणवत्ता के लिहाज से विशिष्ट पहचान रखने वाली हिमाचली ऊन की मांग अब पश्चिमी बाजारों में निरंतर बढ़ रही है। इसके साथ ही प्रदेश के निजी हितधारक भी राज्य के कुछ हिस्सों में हिमाचली ऊन के जैविक प्रमाणन और अन्य प्रमाणन जैसे आर.डब्ल्यू.एस. (रिस्पॉन्सिबल वूल स्टैंडर्ड्स) में निवेश कर रहे हैं।

ऊना : पीड़ा से कराह रही थी गर्भवती, स्टाफ ने एंबुलेंस में करवाया सफल प्रसव 

बता दें कि हिमाचल में प्रमुख रूप से गद्दी और रामपुर बुशहरी नस्ल का पालन किया जाता है। गद्दी नस्ल की भेड़ चंबा, कुल्लू, कांगड़ा और मंडी जबकि रामपुर बुशहरी नस्ल किन्नौर, रामपुर और शिमला में पाई जाती है।

सांसद सरोज पांडेय का दावा, सभी लोकसभा सीटों पर जीत हासिल करेगी बीजेपी 

आंकड़ों के अनुसार राज्य में वर्ष 2019 में की गई पशुधन गणना के अनुसार राज्य में कुल 7,91,345 भेड़ें हैं।  जिसमें विदेशी नस्ल की संख्या 72821 है और स्वदेशी नस्ल की 7,18,524 भेंड़ें है। भेड़पालक ऊन, पशु, मांस, खाद और दूध इत्यादि उत्पादों की बिक्री के माध्यम से आय अर्जित करते हैं।

मार्च में होली और चैत्र नवरात्रि समेत हैं ये व्रत और त्योहार, देखें पूरी लिस्ट

वहीं, भेड़पालकों के हितों की रक्षा के लिए राज्य की शीर्ष सहकारी संस्था हिमाचल प्रदेश वूल फेडरेशन महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है। तकनीकी और यांत्रिक उपकरणों के माध्यम से भेड़ की ऊन निकालने की सुविधाएं प्रदान करने के साथ-साथ भेड़पालकों से ऊन की खरीद के लिए 133.39 करोड़ रुपये का रिवॉल्विंग फंड भी बनाया गया है। बाजार को ध्यान में रखते हुए ऊन का 125 से 150 मीट्रिक टन प्रापण किया जाता है। इसके लिए भेड़ पालकों को मौके पर भुगतान भी किया जाता है।

पीएम मोदी से मिले राज्यपाल शिव प्रताप, भेंट किया चंबा रुमाल

हिमाचल प्रदेश वूल फेडरेशन के एक प्रवक्ता ने बताया कि राज्य में कुल 15.50 लाख किलोग्राम ऊन का उत्पादन किया जाता है, जिसके आधार पर प्रति भेड़ लगभग 1.9 किलोग्राम का उत्पादन होता है। सफेद ऊन की दर 71.50 रुपये प्रति किलोग्राम से लेकर 34.10 रुपये प्रति किलोग्राम और काली ऊन 45 रुपये प्रति किलोग्राम से 25.50 रुपये प्रति किलोग्राम है। हिमाचल प्रदेश वूल फेडरेशन भेड़पालकों को भेड़ों की क्रॉस-ब्रीडिंग प्रक्रिया अपनाने और वस्त्र उद्योग की मांग के अनुसार परिधान निर्माण में उच्च गुणवत्ता वाली ऊन उत्पादित करने के लिए के लिए प्रेरित करती है।

हमीरपुर : PNB की लंबलू शाखा में सेंधमारी, चोरों ने जला डाला रिकॉर्ड

हिमाचल प्रदेश वूल फेडरेशन राज्य के भेड़ पालकों को 11 रुपये से 13 रुपये प्रति भेड़ तक की रियायती दरों पर उपकरणों द्वारा भेड़ की ऊन निकालने की सुविधा भी प्रदान कर रहा है। उपकरणों के माध्यम से भेड़ की ऊन निकालने से समय की बचत होने के साथ यह पशु के स्वास्थ्य के अनुकूल भी होती है। यह सुविधा प्रशिक्षित और अनुभवी भेड़पालकों की मदद से प्रदान की जा रही है।

बिलासपुर: घुमारवीं शहर में अब ट्रैफिक नियम तोड़े तो कटेगा ऑनलाइन चालान

चंबा जिले के होली के गांव देओल के प्रगतिशील भेड़पालक जय सिंह ने बताया कि वह वूल फेडरेशन को लगभग 900 से 1000 किलोग्राम क्रॉसब्रीड ऊन 85.80 रुपये प्रति किलोग्राम की दर से विक्रय करते हैं। वूलफेड की ऊन निकालने की टीमें भरमौर में उनकी भेड़ों की ऊन निकालने में मदद  करती है। फेडरेशन के सहयोग से वह 800 भेड़ों के झुंड को सफलतापूर्वक पालने में सफल हुए हैं। पारम्परिक रूप से ऊन निकालने वाले लोग बहुत कम रह गए हैं और वे प्रति भेड़ 25 रुपये से 30 रुपये शुल्क लेते हैं।

शिमला के इन क्षेत्रों में खोली जाएंगी 11 उचित मूल्य की दुकानें

कांगड़ा जिले के छोटा भंगाल के भेड़ पालक मोहिंदर ठाकुर ने बताया कि वह सर्दियों में अपने लगभग 300 भेड़ों के झुंड के साथ नालागढ़ के पास रामशहर चले जाते हैं। फेडरेशन उन्हें रामशहर के पास जंगल में भेड़ की ऊन निकालने की सुविधा प्रदान करता है और नियमित रूप से प्रशिक्षण शिविर भी आयोजित करती हएै जिससे उनकी समस्याओं के निवारण के लिए स्थानीय पशु चिकित्सकों से परामर्श और प्रशासन से आवश्यक सहायता भी प्राप्त होती है।

HPU में PhD एडमिशन की डेट फिर बढ़ी, अब 28 तक कर सकेंगे अप्लाई

प्रदेश सरकार की कल्याणकारी योजनाओं के फलस्वरूप आज राज्य की ग्रामीण अर्थव्यवस्था निरंतर आगे बढ़ रही है और इससे समाज के सभी वर्गों तथा दूरदराज क्षेत्रों का समान विकास भी सुनिश्चित हो रहा है।

आज की ताजा खबर, ब्रेकिंग न्यूज़, लाइव न्यूज अपडेट पढ़ें https://ewn24.in/ पर,  ताजा अपडेट के लिए हमारा Facebook Page Like करें 
https://youtu.be/0H3YmEQj7dc
Categories
Top News Himachal Latest KHAS KHABAR Chamba Kangra

भूकंप के झटकों से हिली चंबा-कांगड़ा की धरती, रिक्टर स्केल पर 3.7 रही तीव्रता

रात 10 बजकर 38 मिनट पर महसूस किए गए भूकंप के झटके

कांगड़ा/चंबा। हिमाचल प्रदेश के चम्बा औऱ कांगड़ा जिला में सोमवार रात भूकंप के हल्के झटके महसूस किए गए। रिक्टर पैमाने पर इसकी तीव्रता 3.7 मापी गई। मौसम विज्ञान केंद्र शिमला के मुताबिक भूकंप के झटके रात 10 बजकर 38 मिनट पर महसूस किए गए।

बड़ी राहत: हिमाचल में करीब 68 दिन बाद कल खुलेंगे दोनों सीमेंट प्लांट

इसका केंद्र चंबा जिला में जमीन से 5 किलोमीटर गहराई में था। जानकारी अनुसार भूकंप के झटके महसूस होते ही लोग घरों से बाहर निकल आये। भूकंप से कई घरों में रखा सामान हिलने लगा। हालांकि कुछ ही सेकंड में सब कुछ सामान्य हो गया।

हिमाचल: खांसी ही नहीं भगाएगी, रोजगार भी दिलाएगी मुलहठी

राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के एक अधिकारी ने बताया कि भूकंप के झटके कम तीव्रता के थे और इसमें किसी के हताहत और नुकसान की रिपोर्ट नहीं है।

मंडी शहर में ‘व्योमनेत्र’, 250 कैमरे रखेंगे नजर-ड्रोन से भी जोड़ा जाएगा

कांगड़ा घाटी में 1905 में आया था जलजला

कांगड़ा घाटी में चार अप्रैल 1905 को आए भूकंप ने भारी तबाही मचाई थी। भूकंप की दृष्टि से अति संवेदनशील जोन पांच में शामिल कांगड़ा घाटी में अगर भूकंप आया तो तबाही का मंजर भयावह होगा। आज से 117 साल पहले कांगड़ा में आए भूकंप की तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 8 मापी गई थी। तब लगभग 19000 लोग मौत का शिकार हुए थे तथा 38 हजार पशु भी इस भूकंप की भेंट चढ़ गए थे। अकेले कांगड़ा नगर में मरने वाले लोगों की संख्या 10257 थी। आज जिस कद्र पिछले 117 सालों में भवनों का निर्माण हुआ है उस हिसाब से अगर ऐसा विनाशकारी भूकंप आया, तो मृतकों की संख्या लाखों तक पहुंच सकती है।

आज की ताजा खबर, ब्रेकिंग न्यूज़, लाइव न्यूज अपडेट पढ़ें https://ewn24.in/ पर,  ताजा अपडेट के लिए हमारा Facebook Page Like करें 
Categories
ACCIDENT Top News Himachal Latest KHAS KHABAR Chamba

चंबा-भरमौर मार्ग पर रावी नदी में गिरी बाइक, दो युवकों की गई जान

ढकोग के समीप हुआ हादसा

चंबा। चंबा-भरमौर मार्ग पर शनिवार को एक दर्दनाक सड़क हादसा पेश आया है। जिसमें दो युवकों की मौत हो गई। हादसा सुबह 10 बजे के करीब हुआ बताया जा रहा है।

जानकारी के अनुसार दोनों युवक ऑनलाइन ऐमेज़ॉन की कंपनी में डिलीवरी ब्वॉय का काम करते थे। गरोला से धरवाला की तरफ होम डिलीवरी देने के लिए आ रहे थे कि अचानक ढकोग के समीप इनकी बाइक अनियंत्रित होकर रावी नदी में जा गिरी। जिससे इन दोनों युवकों की मौके पर ही मौत हो गई।

बैजनाथ शिव मंदिर में उमड़ा भक्तों का जनसैलाब-देखें तस्वीरें

मृतकों की पहचान विकास कुमार पुत्र लेहरु राम गांव मरौथा पंचायत लोथल व सचिन कुमार पुत्र रोशन लाल गांव तगैलथा पंचायत सुनारा के रूप में हुई है। विकास मां-बाप का इकलौता सहारा था। बताया जा रहा है कि दोनों युवकों ने करीब  2 माह पहले ही डिलीवरी ब्वॉय का काम शुरू किया था।

IND VS AUS 2ND TEST: दिल्ली टेस्ट में मुश्किल में टीम इंडिया, 139 रन पर गंवाए 7 विकेट

मामले की सूचना मिलने बाद मौके पर पहुंचकर पुलिस ने शवों को कब्जे में ले लिया व पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल भेज दिया है। पुलिस मामला दर्ज कर हादसे की जांच शुरू कर दी है।

शिव प्रताप शुक्ल हिमाचल के 29वें राज्यपाल, संस्कृत में ली शपथ

 

आज की ताजा खबर, ब्रेकिंग न्यूज़, लाइव न्यूज अपडेट पढ़ें https://ewn24.in/ पर,  ताजा अपडेट के लिए हमारा Facebook Page Like करें