Breaking News

  • मुख्यमंत्री सुक्खू बोले - बिकाऊ विधायकों ने भाजपा का कमल ही खरीद लिया
  • Breaking : हिमाचल पुलिस के कर्मचारी अब वर्दी में नहीं बना सकेंगे रील, वीडियो
  • लाहौल स्पीति : काजा पहुंची EVM और VVPAT, सुरक्षित स्ट्रॉन्ग रूम में पहुंचाईं
  • हिमाचल : गर्मी ने तोड़ा 10 साल का रिकॉर्ड, शिमला में रविवार सीजन का सबसे गर्म दिन
  • पंडित जवाहरलाल नेहरू की पुण्यतिथि : शिमला राजीव भवन में दी गई श्रद्धांजलि
  • हिमाचल के बागवानों को क्यों नहीं मिलते सेब के सही दाम, राहुल गांधी ने बताया कारण
  • हिमाचल में चढ़ा पारा, अभी सताएगी लू- इस दिन राहत की उम्मीद
  • हिमाचल मौसम अपडेट : अब इस दिन बारिश की उम्मीद, बरस सकते हैं मेघ
  • मनाली घूमने जा रहे पर्यटकों से भरे टैंपो ट्रैवलर और ट्रक में टक्कर, 13 घायल
  • पठानकोट-मंडी एनएच पर दरकी पहाड़ी, तीन मशीनें आई चपेट में, मार्ग अवरुद्ध

धार्मिक स्थलों में घरेलू दरों पर बिजली शुल्क लेने पर होगा विचार : सीएम सुक्खू

    गुरु गोविन्द सिंह के प्रकाश उत्सव पर गुरुद्वारा साहिब में नवाया शीश

    शिमला। सिखों के 10वें गुरु गोबिंद सिंह का 356वां प्रकाश उत्सव आज धूमधाम से मनाया जा रहा हैं। प्रकाश पर्व के अवसर पर श्री गुरुद्वारा साहिब बस स्टैंड शिमला में कार्यक्रम का आयोजन किया गया। मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने भी गुरुद्वारा साहिब में शीश नवाया। मुख्यमंत्री को श्री गुरुद्वारा सिंह सभा प्रबंधक समिति द्वारा 'सिरोपा' भेंट किया गया।
    हिमाचल में पति ने पीट-पीट कर मार डाली पत्नी, पश्चिम बंगाल निवासी

    मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने सिख समुदाय के लोगों को गुरु पर्व की बधाई दी। उन्होंने कहा कि आज का दिन गुरु गोबिंद सिंह के बलिदान को याद कर उनके बताये हुए मार्ग पर चलने का दिन है। मुख्यमंत्री ने कहा कि गुरु गोबिंद सिंह एक महान संत, योद्धा, कवि और दार्शनिक थे, जिन्होंने न केवल खालसा पंथ की स्थापना की बल्कि मानवता के लिए भी अतुलनीय योगदान दिया।

    सुखविंदर सिंह सुक्खू ने कहा कि गुरु गोबिंद सिंह ने मुगल अत्याचार के खिलाफ बहादुरी से लड़ाई लड़ी। उन्होंने कहा कि जब वह नौ वर्ष के थे, तब उन्होंने अपने पिता गुरु तेग बहादुर को कश्मीरी पंडितों को मुगलों के अत्याचार से बचाने के लिए प्रेरित किया।
    हिमाचल: फरवरी में होगी HAS मुख्य परीक्षा , आवेदन की तिथि बढ़ाई

    मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार सभी धार्मिक स्थलों में बिजली के मीटरों पर व्यवसायिक दरों के स्थान पर घरेलू दरों पर शुल्क लेने की मांग पर सहानुभूतिपूर्वक विचार करेगी क्योंकि ये धार्मिक संस्थाएं मानवता की सेवा कर रही हैं। इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने अपनी ऐच्छिक निधि से लंगर सेवा के लिए 11,000 रुपये देने की घोषणा की।

    इस अवसर पर उन्होंने श्री गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी शिमला की ओर से मेधावी विद्यार्थियों को सम्मानित भी किया। श्री गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष जसविंदर सिंह ने मुख्यमंत्री को सरोपा भेंट कर सम्मानित किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री के प्रधान सलाहकार (मीडिया) नरेश चौहान, श्री गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी शिमला के महासचिव सेवा सिंह, विधायक अनिरुद्ध सिंह और हरीश जनारथा, मुख्यमंत्री के ओएसडी गोपाल शर्मा और अन्य गणमान्य व्यक्ति भी उपस्थित थे।
    Job Breaking: आयोग ने इन पदों पर शुरू की भर्ती प्रक्रिया-26 तक आवेदन


    धार्मिक स्थलों में घरेलू दरों पर बिजली शुल्क लेने पर होगा विचार : सीएम सुक्खू



     
    आज की ताजा खबर, ब्रेकिंग न्यूज़, लाइव न्यूज अपडेट पढ़ें https://ewn24.in/ पर,  ताजा अपडेट के लिए हमारा Facebook Page Like करें 

Himachal Latest

Live video

Jobs/Career

Trending News

  • Crime

  • Accident

  • Politics

  • Education

  • Exam

  • Weather