Categories
Top News business

अब बिजली की तेजी से खाना पहुंचाएगा स्विगी, रिलायंस से मिलाया हाथ

इलेक्ट्रॉनिक वाहनों की जरूरत पूरी करेगी रिलायंस बीपी मोबिलिटी

नई दिल्ली। आपके खाने का ऑर्डर अब बिजली की तेजी से आपके पास पहुंच जाएगा। जी हां, रिलायंस बीपी मोबिलिटी लिमिटेड और फूड डिलीवरी एप स्विगी ने एक समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं जिसमें कहा गया है कि खाने की डिलीवरी करने वाले स्विगी के वाहनों को इलेक्ट्रॉनिक किया जाएगा। मतलब भविष्य में स्विगी के डिलीवरी टू-व्हीलर वाहन, बैटरी ऑपरेटिड इलेक्ट्रॉनिक वाहन में बदल जाएंगे। जाहिर है जब स्विगी के लाखों ऑर्डर लेने वाले डिलीवरी वाहन इलेक्ट्रॉनिक हो जाएंगे तो उसके लिए बैटरी स्वापिंग स्टेशन यानी बैटरी बदलने वाले स्टेशन्स की जरूरत होगी, जिसे रिलायंस बीपी मोबिलिटी अपने बैटरी स्वैप स्टेशन से पूरा करेगा।

एयरटेल ने बढ़ाए मिनीमम रिचार्ज के दाम, कहीं जियो पर ना शिफ्ट हो जाएं ग्राहक

उद्योग जगत के दो प्रमुख खिलाड़ियों के बीच इस साझेदारी का उद्देश्य एक नए बिजनेस मॉडल के माध्यम से डिलीवरी वाहनों के बेड़े को वातावरण के अनुकुल और किफायती बनाना है। स्विगी की सहायता से विभिन्न स्थानों पर जियो-बीपी बैटरी स्वैपिंग स्टेशन लगाए जाएंगे। स्विगी डिलीवरी पार्टनर्स और स्विगी स्टाफ को रिलायंस बीपी मोबिलिटी बैटरी स्वैपिंग से संबंधित तकनीकी सहायता और प्रशिक्षण देगा। रिलायंस बीपी मोबिलिटी लिमिटेड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी हरीश सी मेहता ने कहा, “भारत सरकार के इलेक्ट्रिक मोबिलिटी के विजन का आरबीएमएल सपोर्ट करता है। हम एक मजबूत और टिकाऊ बुनियादी ढांचा स्थापित कर रहे हैं जिसमें ईवी चार्जिंग हब और बैटरी स्वैपिंग स्टेशन शामिल हैं। हमें विश्वास है कि स्विगी और उनके डिलीवरी पार्टनर हमारे बैटरी स्वैप स्टेशनों के व्यापक नेटवर्क से लाभान्वित होंगे।”

ये भी पढे़ं – रिलायंस जियो के ग्राहकों को तोहफा, कर सकेंगे अमरनाथ की वर्चुअल यात्रा

स्विगी के सीईओ श्रीहर्ष मजेटी ने कहा, ” स्विगी का बेड़े के डिलीवरी वाहन प्रतिदिन औसतन 80- 100 किमी की यात्रा करते हैं और लाखों ऑर्डर डिलिवर करते हैं। हम पर्यावरणीय पड़ने वाले इसके प्रभाव के प्रति जागरूक हैं और इसके लिए आवश्यक कदम उठा रहे हैं। इलेक्ट्रिक वाहनों में बदलाव इस दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है। इसका न केवल पर्यावरण पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा बल्कि हमारे डिलीवरी पार्टनर्स की भी कमाई बढ़ेगी।” अगले 5 साल में जियो बीपी ने हजारों बैटरी स्वैप स्टेशनों का एक नेटवर्क स्थापित करने का लक्ष्य रखा है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए facebook page like करें 

Leave a Reply

Your email address will not be published.