Categories
Top News Himachal Latest Solan State News

सोलन जिला में बारिश से डेढ़ माह में 15 करोड़ से अधिक की चपत

डीसी ने लोगों को आवश्यक होने पर ही घर से निकलने को कहा

सोलन। डीसी सोलन कृतिका कुल्हारी ने कहा कि सोलन जिला में 13 जून, 2021 से आज तक वर्षा के कारण लगभग 15 करोड़ 40 लाख रुपए का नुकसान आंका गया है। उन्होंने कहा कि मौसम विभाग द्वारा जारी चेतावनी के दृष्टिगत सभी को एहतियात बरतनी चाहिए। उन्होंने आग्रह किया है कि ऐसे में लोग आवश्यक होने पर ही घर से बाहर निकलें और अनावश्यक यात्राओं को स्थगित कर दें। उन्होंने स्थानीय निवासियों सहित पर्यटकों से आग्रह किया कि वर्षा के कारण विभिन्न नालों, खड्डों का जल स्तर अधिक है और ऐसे में इनके किनारे न जाएं।

यह भी पढ़ें : Exclusive : हिमाचल में 24 घंटे में कितनी हुई तबाही, पढ़ें यह रिपोर्ट

कृतिका कुल्हारी ने कहा कि जिला प्रशासन भारी वर्षा के कारण होने वाली किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार है। डीसी सोलन कृतिका कुल्हारी ने जिला के सभी एसडीएम को निर्देश दिए हैं कि भारी वर्षा के कारण क्षतिग्रस्त मार्गों को शीघ्र बहाल करवाएं और यह सुनिश्चित बनाएं कि किसी भी स्थान पर लोगों को मूलभूत सुविधाओं से वंचित न रहना पड़े।

कृतिका कुल्हारी ने सभी एसडीएम को निर्देश दिए कि अपने-अपने अधिकार क्षेत्र में वर्षा के कारण हो रही क्षति का नियमित अनुश्रवण करें और इस सम्बन्ध में आवश्यक रिपोर्ट जिला मुख्यालय स्तर पर प्रेषित करते रहें, ताकि उच्च स्तर पर इस सम्बन्ध में जानकारी अविलम्ब प्रदान की जा सके।

 

यह भी पढ़ें : हिमाचल में बारिश का कहर : बाढ़, बादल फटने और लैंडस्लाइडिंग से मची तबाही

 

डीसी ने कहा कि जिला के विभिन्न उपमंडलों में वर्षा के कारण अवरूद्ध संपर्क मार्गों को शीघ्र बहाल करने पर युद्ध स्तर पर कार्य किया जाए। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण को यह सुनिश्चित बनाने को कहा गया है कि सोलन जिला से होकर गुजरने वाले सभी राष्ट्रीय राजमार्गों पर यातायात सुचारू रूप से चलता रहे। उन्होंने कहा कि जलशक्ति विभाग को विभिन्न जलापूर्ति योजनाओं को सुचारू रखने के निर्देश दिए गए हैं।

प्रदेश विद्युत बोर्ड लिमिटिड को निर्देश दिए गए हैं कि जिला में विद्युत आपूर्ति सुचारू रखी जाए। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग को निर्देश दिए गए हैं कि जिला में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के साथ-साथ जलजनित रोगों एवं वर्षा के कारण होने वाले अन्य रोगों से बचाव के संबंध में समुचित तैयारी एवं दवा भंडारण सुनिश्चित बनाया जाए। उन्होंने कहा कि सभी एसडीएम को निर्देश दिए गए हैं कि आपदा की स्थिति में प्रभावित व्यक्तियों एवं परिवारों को तुरन्त फौरी राहत प्रदान की जाए और उनका पुनर्वास सुनिश्चित बनाया जाए।

 

 

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए facebook page like करें 

Leave a Reply

Your email address will not be published.