Categories
Top News SPORTS NEWS

टोक्यो ओलंपिक में टूटा मैरी कॉम का सपना, हार कर भी जीत लिया दिल

कोलंबियाई बॉक्सर ने मैरी कॉम को 3-2 से हराया

नई दिल्ली। छह बार की विश्व चैंपियन और 2012 लंदन ओलंपिक की कांस्य पदक विजेता मैरी कॉम का टोक्यो ओलंपिक में मेडल जीतने का सपना टूट गया है। बॉक्सिंग में भारत को बड़ा झटका लगा है। दिग्गज बॉक्सर मैरी कॉम 51 किलोग्राम वेट कैटेगरी के प्री-क्वार्टर फाइनल में कोलंबिया की विक्टोरिया इनग्रिट वेलेंसिया से हार गईं। कोलंबियाई बॉक्सर ने भारतीय बॉक्सर मैरी कॉम को 3-2 से हराया।

 

यह भी पढ़ें :  ओलंपिक पर कोरोना का साया : टोक्यो में पहली बार आए रिकॉर्ड 3,177 मामले

 

पहले राउंड में वेलेंसिया के पक्ष में 5 में से 4 जजों ने फैसला सुनाया। यही मैच का टर्निंग पॉइंट रहा। मैरी कॉम को इसी बढ़त की वजह से हार का सामना करना पड़ा। इसके बाद मैरी कॉम ने बाकी बचे दोनों राउंड जीते लेकिन वह वेलेंसिया को मिले टोटल पॉइंट को कवर नहीं कर पाईं। 38 साल की मैरी कॉम इससे पहले 32 साल की वेलेंसिया को दो बार हरा चुकी थीं। जब रेफरी ने मुकाबले के अंत में वेलेंसिया का हाथ ऊपर उठाया तो मैरी कॉम की आंखों में आंसू थे। इसके बाद कोलंबियाई बॉक्सर ने मैरी कॉम को गले से लगाया और उन्हें सांत्वना दी। इस दौरान मैरीकॉम की आंखों में आंसू थे और चेहरे पर मुस्कान थी जिसने सबका दिल जीत लिया।

यह भी पढ़ें :  अध्ययन में खुलासा : कोरोना टीका ना लगाने वाले ज्यादा हो रहे पॉजिटिव

 

इसी के साथ भारत और मैरी कॉम का ओलंपिक गोल्ड जीतने का सपना भी टूट गया। इससे पहले वे 2012 लंदन ओलिंपिक में ब्रॉन्ज मेडल जीत चुकी हैं। हालांकि भारत के बेटी ने हार के बावजूद बेहतरीन प्रदर्शन किया जिसके लिए देशवासी उनको चियर कर रहे हैं। पूर्व खेल मंत्री व मौजूदा कानून मंत्री रिजिजू ने ट्वीट कर कहा, ‘आप टोक्यो ओलंपिक में महज एक अंक से हारीं लेकिन मेरे लिए आप हमेशा एक चैंपियन हो। आपने वो हासिल किया है, जो दुनिया में कोई महिला मुक्केबाज हासिल नहीं कर सकी है। आप महान हो। भारत को आप पर गर्व है। मुक्केबाजी और ओलंपिक को आपकी कमी खलेगी। उन्होंने सभी भारतीयों के लिए कहा, मैरीकॉम साफ तौर पर विजेता थीं लेकिन जजों की अपनी गणना

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए facebook page like करें 

Leave a Reply

Your email address will not be published.